उत्तर प्रदेशखेती किसानीब्रेकिंग न्यूज़भविष्य के नेताराज्यरोजगारलखनऊव्यापारशिक्षासमग्र समाचार

गौ आधारित जैविक खेती करने वाले किसानों को मिलेगी सब्सिडी: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

आधुनिक खेती पर आयोजित कार्यशाला में CM योगी ने बताया किसानों की आमदनी दोगुनी करने का फार्मूला, की बड़ी घोषणा! मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि बड़ी संख्या में कृषकों को प्रकृतिक खेती से जोड़ने और उन्हें प्रोत्साहित करने के लिए हमने सूबे के 1038 गांवों में ट्रेनिंग कैंप भी लगाए हैं. इस कार्यक्रम के दौरान सीएम योगी ने प्राकृतिक खेती करने वालों को सब्सिडी देने की भी घोषणा की

लखनऊ: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आधुनिक खेती पर आयोजित कार्यशाला में वर्चुअली जुड़े. इस दौरान उन्होंने आधुनिक और नवोन्मेषी कृषि कार्य पर अपना संबोधन भी दिया. प्राकृतिक खेती पर अपने विचार रखते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हमें प्रदेश में प्राकृतिक खेती को बढ़ावा देना है. उन्होंने कहा कि प्राकृतिक खेती के कृषकों को ज्यादा लाभ है।

सीएम योगी ने कहा कि प्राकृतिक तौर पर खेती करने में किसानों को कम लागत में ज्यादा कमाई होगी. इससे किसानों की आमदनी भी बढ़ेगी. उन्होंने कहा कि हमारी सरकार कृषि क्षेत्र को आधुनिक और नवोन्मेषी बनाने को लेकर प्रतिबद्ध है. प्राकृतिक खेती के जरिए किसानों की आय बढ़ाना हमारी प्राथमिकताओं में से एक है और इसके लिए हम किसानों को प्रोत्साहित भी कर रहे हैं।

बता दें कि आजादी का अमृत महोत्सव के तहत आयोजित इस कार्यक्रम में कृषि क्षेत्र को आधुनिक बनाने पर चर्चा हुई. कार्यक्रम का नवोन्वेषी कृषि विषय पर आधारित था. प्राकृतिक खेती को बढ़ावा देने के लिए सीएम योगी ने सरकार के कामों और प्रयासों को भी गिनाया. उन्होंने कहा कि हमारा लक्ष्य किसानों की आय दोगुनी करने का है. मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि हमने अब तक 56 हजार लोगों को प्राकृतिक खेती की ट्रेनिंग दी है. बड़ी संख्या में कृषकों को प्रकृतिक खेती से जोड़ने और उन्हें प्रोत्साहित करने के लिए हमने सूबे के 1038 गांवों में ट्रेनिंग कैंप भी लगाए हैं. इस कार्यक्रम के दौरान सीएम योगी ने प्राकृतिक खेती करने वालों को सब्सिडी देने की भी घोषणा की।

इस कार्यक्रम में रूरल बिज़नेस हब फाउंडेशन इंडिया के राष्ट्रीय संयोजक गौरव कुमार गुप्ता,  सदस्य कृषि पंडित लल्ला भैया – अबधेश प्रताप सिंह और श्याम बिहारी गुप्ता ने प्रतिभाग किया। लल्ला भैया का प्राकृतिक खेती करने का मॉडल सराहा गया। उनका यह मॉडल अन्ना छुट्टा पशुओं की समस्या का समाधान है, सरकार जल्द ही पूरे प्रदेश में लागू करने की कवायद शुरू कर सकती है।

गौरव गुप्ता: गौ आधारित प्राकृतिक खेती, ड्रोन, सैटेलाइट आधारित उपकरण, क्रॉप मैनेजमेंट और पराली प्रबंधन की आधुनिक तकनीक से फसल लागत कम होगी और जैविक उत्पादन बढ़ेगा। जिससे निश्चित ही किसान की आमदनी दो गुनी से ज्यादा हो जाएगी।

Tags

Related Articles

Back to top button
Close