उत्तर प्रदेशब्रेकिंग न्यूज़लखनऊसमग्र समाचार

कौशल किशोर की हार पर भी सरोजनी नगर में खुशी एवं बधाई का माहौल

समग्र चेतना /सुशील शुक्ला

लखनऊ :- लोकसभा चुनाव 2024 के चुनाव परिणाम चौंकाने वाले रहे हैं।
भारतीय जनता पार्टी को आशा के अनुरूप सीट नहीं प्राप्त हुई तो वहीं विपक्ष को उम्मीद से कहीं ज्यादा सीटें हासिल हुई।

एनडीए गठबंधन को सरकार बनाने हेतु आवश्यक सीट जरूर प्राप्त हो गई हैं और वह सरकार बनाने का दावा पेश कर रही है। विपक्ष भी एक मजबूत स्थिति में है और जोड़ तोड़ की राजनीति से सरकार बनाने की दिशा में बढ़ता नजर आया।

उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी जो पिछले चुनाव में 5 सीटों पर थी वह 37 सीटों पर पहुंच गई यह एक अप्रत्याशित परिणाम है। समाजवादी पार्टी को भी इतनी सीटें मिलने का अनुमान नहीं रहा होगा किंतु जनादेश कुछ ऐसा ही आया है जो समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं में खुशी का माहौल लेकर आया।

समाजवादी पार्टी उत्तर प्रदेश में सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी कांग्रेस के साथ उसका यह गठबंधन 43 सीट लाने में सफल रहा तो भारतीय जनता पार्टी के लिए यह एक बड़ा झटका साबित हुआ।

पूरे विपक्षी खेमे में इस बात की खुशी है कि वह सफल रहा और उसे आशा से ज्यादा इस चुनाव में प्राप्त हुआ कुछ ऐसी ही खुशी मोहनलालगंज से पूर्व केंद्रीय राज्य मंत्री कौशल किशोर की हार के बाद सरोजनी नगर में दिखाई दे रहा है।

रमाबाई रैली स्थल पर चुनाव परिणाम आते ही सरोजनी नगर के तमाम भाजपा पदाधिकारी एक दूसरे को बधाई देते नजर आए कि सरोजनी नगर से कौशल किशोर को 30 हजार वोटो से जीत हासिल हुई लेकिन चुनाव परिणाम आर के चौधरी के पक्ष में गया कि वह जीत गए और कौशल किशोर 70 हजार वोटो से हार गए फिर यहां खुशी और बधाई का माहौल कैसा ? यह अपने आप में एक बड़ा सवालिया निशान है कि प्रत्याशी की हार पर विधानसभा में पड़े मतों पर खुशी कैसी! यह खुशी बिल्कुल विपक्ष की उस खुशी जैसी है जो वह आज जश्न के रूप में मना रही है।

उत्तर प्रदेश में पार्टी की करारी हार पर मंथन जारी है तो वही सरोजनी नगर क्षेत्र के तमाम भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता पदाधिकारी 30 हजार वोटो से जीत का जश्न मनाते हुए क्षेत्र के विधायक राजेश्वर सिंह को और उनकी पूरी टीम को बधाई दे रहे हैं तो कहीं वार्डो के आंकड़े प्रस्तुत करके विधायक राजेश्वर सिंह को बधाई दी जा रही है और उनकी टीम को इसका श्रेय दिया जा रहा है।

चुनाव के दौरान सरोजनी नगर के यही पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता कौशल किशोर को 9 लाख वोट मिलने का दावा कर रहे थे ना तो कौशल किशोर को 9 लाख वोट मिले ना सरोजिनी नगर से एक बड़ी जीत जिसका पूर्व अनुमान था! बेशक चुनाव परिणाम उनकी हार के साथ सामने आया फिर खुशी और बधाई के क्या मायने लगायें जाए!

एक ओर एक बड़ा गुट कौशल किशोर को हराने के लिए चुनाव प्रचार में काम कर रहा था और पूरी ताकत इस बात पर लगाई गई कि कौशल किशोर को हराकर भेजना है जो चर्चा आम है और चुनाव परिणाम भी ऐसे ही आए हैं कि कौशल किशोर पूर्व केंद्रीय राज्य मंत्री मोहनलालगंज विधानसभा से अपना चुनाव हार गए और हैट्रिक लगाने से चूक गए।

वैसे कयास यह लगाए जा रहे हैं कि कौशल किशोर की हार के पीछे पार्टी की आंतरिक कलह, नाराजगी एवं कुछ वर्ग विशेष द्वारा कौशल किशोर को हराने के लिए किए गए प्रयास थे जिसका परिणाम यह रहा कि कौशल किशोर 70 हजार से अधिक वोटो से अपना चुनाव हार गए।

Related Articles

Back to top button
Close