उत्तर प्रदेशपंजाबब्रेकिंग न्यूज़मनोरंजनराजनीतिराज्यलखनऊसमग्र समाचार

बहुत जरूरी है हाथों की सफाई वरना खानी पड़ेगी दवाई

– हाथों को साफ़ रखें- बीमारियों से बचें : सीएमओ
– ग्लोबल हैंड वाश डे (15 अक्टूबर) पर विशेष
सीतापुर। हमारे हाथों में काफी गंदगी छिपी होती हैं, जो किसी भी वस्तु को छूने, उसका उपयोग करने और रोजमर्रा के कार्यों से होती हैं। यह गंदगी, बगैर हाथ धोए कुछ भी खाने-पीने से शरीर में पहुंच जाती है और बीमारियों को जन्म देती हैं। इसलिए जरूरी है कि कुछ भी खाने-पीने से पहले और शौच जाने के बाद हाथों को अच्छी तरह से जरूर धोना चाहिए। यह कहना है सीएमओ डॉ. मधु गैरोला का। उन्होंने बताया कि कोरोना संक्रमण के बाद काफी हद तक लोगों ने हाथ की स्वच्छता को अपने व्यवहार में शामिल किया है। इस संबंध में जागरूता को लेकर हर साल 15 अक्टूबर को ग्लोबल हैंड वॉशिंग डे मनाया जाता है।

सीएमओ बताती हैं कि अगर आप रोगाणु जनित बीमारियों से बचना चाहते हैं तो हैंड हाइजीन का ध्यान जरूर रखना चाहिए। अल्कोहल या साबुन आधारित हैंड वाश सबसे सुरक्षित और सही माने जाते हैं। सही व अच्छे तरीके से हाथ धोने से आप निमोनिया, टाइफाइड, दस्त, पेट, आंख, त्वचा संबंधी रोग और डायरिया जैसी घातक बीमारियों से बच सकते हैं और अन्य के बीच फैलने से बच सकते हैं।

क्या कहते हैं आंकड़े —
द स्टेट ऑफ हैंड वॉशिंग की 2016 की वार्षिक रिपोर्ट बताती है कि भारत के ग्रामीण क्षेत्र में 54 प्रतिशत आबादी शौचालय के बाद हाथ धोती है, वहीं, सिर्फ 13 प्रतिशत आबादी खाना बनाने से पहले और 27 प्रतिशत बच्चों को खाना खिलाने से पहले हाथ धोती है। दूसरी ओर शहरी क्षेत्र में 94 प्रतिशत लोग शौचालय के बाद हाथ धोते हैं, 74 प्रतिशत खाना बनाने से पहले और 79 प्रतिशत बच्चों को खाना खिलाने से पहले हाथ धोते हैं। ग्लोबल बर्डन ऑफ डिजीज रिपोर्ट के मुताबिक पांच साल की उम्र पूरी करने से पहले ही हर साल कई लाख बच्चों की मौत डायरिया और न्यूमोनिया के चलते हो जाती है। इसके अलावा एक साल में 5 साल तक की उम्र के बच्चे 2 से 3 बार इन बीमारियों से पीड़ित होते हैं। इन बीमारियों का सबसे प्रमुख कारण साफ-सफाई को माना जाता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक हाथ के माध्यम से रोगाणुओं का संचार सबसे ज्यादा होता है।

कब जरूरी है हाथ धोना —
शौच के बाद, खाना बनाने व खाने से पहले हाथ जरूर धुलें। मुंह, नाक व आंखों को छूने के बाद हाथ धुलें। खांसने व छींकने के बाद, घर की साफ-सफाई करने के बाद, किसी बीमार व्यक्ति से मिलने के बाद, पालतू जानवरों को छूने के बाद जरूर हाथ धुलें।

इस तरह हाथों को करें साफ —
हाथों की सफाई का सबसे बेहतर तरीका सुमन – के है। इसके छह चरण हैं। इसके पहले चरण मे एस का मतलब हाथों को सीधा साफ करना, यू से हाथों को उल्टा करके साफ करना, एम का मतलब मुट्ठी साफ करना, ए से अंगूठा साफ करना, एन से नाखून साफ करना और के से कलाई साफ करना। इस क्रम मे कम से कम 40 सेकेंड तक हाथों को साफ करना चाहिए।

Related Articles

Back to top button
Close